Sunday, 28 May 2017

TigerNifty: SEND THIS TELEGRAM LINK TO ALL YOUR GROUP THOSE WHO ARE TRADING IN STOCK MARKET TigerNifty: https://t.me/joinchat/AAAAAEG-1DE7zf7MZYcw2g


TigerNifty: 🌺 *परम पुज्य अवधूतबाबा शिवानन्दजी का समस्त शिवयोगीयों को मार्मीक संदेश* 🌺 आज किसान अधीक फसल उगाने के लालच मे रासायनिक खाद का इतना ज्यादा उपयोग करने लगा है कि जमीन की उर्वरा शक्ति समाप्त हो गयी है एवं परिणामतः रासायनिक खाद एवं कीटनाशक द्रव्यों की आवश्यकता दिनप्रतिदिन बढ़ते ही जा रही है ! इस वजह से किसान का खर्चा भी बढ़ते जा रहा है ! रासायनिक खाद की वजह से खेती के लिए जमीन को उपजाऊ बनाने वाले जीव जिसमे मुख्यतः केचुवे और अन्य करीब ५० प्रकार के जीवों की प्रजातियाँ नष्ट हो चुकी है ! अंततः जमीन बंज�र होती जा रही है और इससे पक्षी , कीट पतंगे, भँवरे और तितलीयाँ समाप्त हो रहे है ! खेत मे रासायनिक खाद डालने से वो जहरीला पानी जमीन के अंदर गहराई मे उतरने से जमीन के अंदर के पानी के स्रोतो से जहरीला पानी कुओं मे आ रहा है , तथा खेत से पानी नालों मे , नालों से नदियों मे और बड़े बड़े बाँधों मे जा रहा है और वो जहरीला पानी हम रोज पी रहें है ! अंत मे यहीं पानी समंदरो मे जाने से समंदर भी दुषीत हो चुके है ! रासायनिक खादोंसे उगायें गये सभी प्रकार के अनाज और सब्जियों मे भी जहर पाया गया है, आज भोजन मे हम सबको अप्रत्यक्ष रूप से विष परोस रहें है, जिसका सेवन करने से आज आम आदमी ब्लडप्रेशर,जोड़ो मे दर्द , डायबीटीज, लकवा, दमा-अस्थमा, हृदय रोग, एवं केंसर जैसे घातक बीमारियों से ग्रस्त हो रहा है ! गाय और भैस के दुध मे भी ये विषैलें रसायन पाये जा रहे है ! और अज्ञानतावश हम हमारे बच्चो को जहरीला दुध पीला रहे है फलस्वरूप अनेक बच्चों को बचपन मे ही विभिन्न घातक बीमारीयाँ होते दिखाई दे रही है! जमीनी सतह पर कहीं सुखा तो कहीं बाढ़ आ रही है सृष्टि का संतुलन बिगड़ गया है और ये सब प्रलय के आसार नजर आ रहे है ....... फसल उत्पादन मे निरंतर घट और रासायनिक खाद और कीटनाशक के खरीदी मे होने वाले खर्च मे निरंतर वृद्धि से किसान हताश होकर आत्महत्या कर रहा है जो की बहोत ही दुःख की बात है! सरकार किसान को कम कीमत मे बीज , बिजली तथा कर्ज दे कर या कर्ज माफ़ कर और मुआवज़ा देकर मदत करके भरसक प्रयास रही है लेकिन किसानों की आत्महत्या रोकने मे सफल हो नही पा रही है ..... सभी शिवयोगी मिलकर जहाँ इस पृथ्वी को नष्ट होने से बचा सकते है वहाँ किसानों को भी बचा सकतें है ! इस बात का मुझे पूरा विश्वास है और इसके लिए आप सभी को मिलकर प्रयास करना होगा ! *मुझ अकेले को ये संभव नही है* ! आप सब किसानों को अपने साथ जोड़ें उन्हें शक्ति मै दूँगा ! आप अपने अपने फोरम के जरीये से किसान शिविर का आयोजन करें और उन्हें शिवयोग कृषि पद्धति से अवगत कराएं ! �शिवयोग कृषि के लाभ :- १)शिवयोग कृषि पद्धति से खेती करनेसे ७०% खर्चा कम हो जाती है एवं पहली बार मे ही फसल दुगनी होती है तथा आगे चल कर ८ गुना फसल बढ़ जाती है ! २) फसल मे कीड़ा नही लगता ! ३)कम पानी मे भी अच्छी फसल होती है ! ४) जंगली जानवर नुकसान नही करते ! ५) किसान निरंतर साधना करें तो वह पुर्णतः स्वस्थ रहता है एवं उनके आपसी पारिवारिक झगड़े समाप्त हो जाते है ! ६) उसके पशु स्वस्थ रहते है एव दुधारू पशुओं के दुध मे भरपूर वृद्धि होती है ! ७ ) इस प्रकार से किसान खुदको, अपने परिवार को, समाज को एवं देश और दुनिया को अमृतस्य भोजन उपलब्ध कर सकता है ! ८) इस प्रकार शिवयोगी साधक किसान के साथ मिलकर मृत जिवों को पुनर्जिवी�त कर नयी सृष्टि का निर्माण एवं सृजन कर सकता है ! *हे शिवयोगी तुम एक कदम आगे बढ़ाओ उसके आगे शुन्य मै लगाते जाऊँगा ** *Bless You* *नमः शिवाय*